Algorithmic trading : क्या आप जानते हैं कि एल्गो ट्रेडिंग क्या है?

आप यदि share market के बारे में सीखना चाहते हैं या trading करना चाहते हैं तो आपको इसके हर पहलु से अवगत होना चाहिए. मैंने अपने अध्ययन में जो बातें सीखी है उससे स्पष्ट है कि trading करना कोई बच्चों का खेल नहीं है, इसके लिए कुछ गुणों का आपके अन्दर होना जरुरी है. (Algorithmic trading)

आपमें धैर्य, लालच नहीं करना, सही जानकारी, ट्रेडिंग के तकनिकी बारीकियां, बाज़ार की जानकारियों से नियमित update रहना, व्यापक दृष्टिकोण, एकाग्रता, नयी चीजों को सीखने की जिज्ञाषा, आदि. 

कई बार ऐसा देखा गया है की कुछ लोग भय और लालच जैसी भावना से बहुत जल्दी प्रभावित हो जाते हैं तो मैं उनके लिए कहना चाहूँगा कि trading उनके लिए सही विकल्प नहीं है.

आज के लेख में मैं बात करनेवाला हूँ कि Algorithmic trading या एल्गो ट्रेडिंग क्या होता है.

Algorithm trading क्या है?

Algorithm trading जिसे Algo trading भी कहा जाता है जो मूल रूप से system पर आधारित trading है. यह व्यापार की एक ऐसी प्रणाली है जो उन्नत गणितीय उपकरणों (advanced mathematical tools) का उपयोग करके वित्तीय बाजारों में लेनदेन के निर्णय लेने की सुविधा देती है. 

वास्तव में यहाँ पर आपकी ओर से मशीनें shares खरीदने – बेंचने का कार्य करती है. यह एक ऐसी प्रणाली है जिसमें system में फार्मूले फिट कर दिए जाते हैं और इसी के आधार पर मशीनें लेन-देन का काम करती है. इसमें computer programming का इस्तेमाल किया जाता है. 

इसतरह की प्रणाली में जो मुख्यतः बड़े देशों में ज्यादा उपयोग में लाया जाता है, मानव व्यापारी का हस्तक्षेप कम से कम होता है. यह तकनीक इतना उन्नत होता है जिसके कारण निर्णय लेने की प्रक्रिया बहुत तेज होती है.

कोई आम आदमी जब ट्रेडिंग करता है तो कभी – कभी उसके सामने मानवीय भावनाएँ (emotions) आड़े आ जाते हैं जिसके कारण वह उचित और तेज फैसला कर पाने में असमर्थ होता है. एल्गो ट्रेडिंग के जैसा त्वरित खरीद – बिक्री सम्बंधित निर्णय लेने की क्षमता कोई आम आदमी में नहीं हो सकता है. 

तय guidelines का पालन इसमें computer programming का इस्तेमाल करते हुए किया जाता है. इसमें तकनिकी आधार पर profit के साथ Buy-Sell की पूरी प्रक्रिया को सेट किया जाता है. 

Algorithm trading की विशेषता 

  • इसमें ख़ास तरह का software का इस्तेमाल trading के लिए किया जाता है 
  • इसतरह के ट्रेडिंग में इंसानों की हस्तक्षेप को न्यूनतम रखा गया है 
  • इसके अन्य नाम ऑटोमेटेड ट्रेडिंग, ब्लैक बॉक्स ट्रेडिंग और एल्गो ट्रेडिंग भी है 
  • यहाँ trading पूरी तरह से electronic प्लेटफार्म पर होता है
  • इसे आप system पर आधारित trading कह सकते हैं 
  • यह तेज़ गति और सटीकता के साथ काम करता है 
  • यह trading भी परम्परागत व्यापारिक रणनीतियों से अलग नहीं है 
  • इसमें computer software को प्रोग्राम और algorithm के साथ load किया जाता है 

भारत में एल्गो ट्रेडिंग की शुरुआत 

प्रारंभ में Securities & Exchange Board of India (SEBI) ने संस्थागत ग्राहकों को डायरेक्ट मार्केट एक्सेस की सुविधा प्रदान कर एल्गो ट्रेडिंग की शुरुआत किया. भारत में इसकी शुरुआत वर्ष 2008 में हुई. बहुत सारे लोगों के मन में एक सवाल रहता है कि क्या एल्गो ट्रेडिंग भारत में वैधानिक है?

जी हाँ, यह पूरी तरह से भारत में वैधानिक है. SEBI द्वारा वर्ष 2008 में एल्गो ट्रेडिंग करने की अनुमति प्रदान किया गया था. भारत में एल्गो ट्रेडिंग के कुछ अच्छे platforms हैं जैसे :

  • Zerodha Streak
  • ODIN – Algorithmic trading 
  • AlgoNomics 
  • 5paisa algo Trading

अंतिम बात 

यह मुख्य रूप से पैसा कमाने के लिए तैयार किया गया रणनीति है. एल्गो ट्रेडिंग सॉफ्टवेर से ट्रेडिंग करने का फ़ायदा यह हैं कि आप share market की बारीकियां जाने बगैर भी trading कर सकते हैं. इसमें त्रुटियाँ होने की संभावना कम होती है. यह उनलोगों के लिए फायदेमंद है जो ट्रेडिंग तो करना चाहते हैं किन्तु उनके पास समय का आभाव है. अभी के दौर में आप advanced एल्गो टूल्स का इस्तेमाल करके
ऑटोमेटेड ट्रेडिंग निर्णय लेने की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं. 

Lal Anant Nath Shahdeo

मैं Lal Anant Nath Shahdeo इस हिंदी ब्लॉग का founder हूँ. यह ब्लॉग बनाने का मेरा उद्देश्य हिंदी पाठकों तक हिंदी भाषा में महत्वपूर्ण जानकारी पहुँचाना है.

Leave a Reply