Chartered Accountant in Hindi

CAकैसे बने पूरी जानकारी हिंदी में

विद्यार्थी जीवन काल में हर बच्चे के मन में कुछ न कुछ बनने या करने का एक सपना होता है. कोई डॉक्टर तो कोई इंजिनियर, कोई पायलट तो कोई लेखक, कोई गायक तो कोई नेता आदि न जाने कितने सपने होते हैं. जरुरी नहीं की हर किसी का सपना पूरा होता है. कोई अपने सपने को पाने में कामयाब होता है तो कोई नाकामयाब. बचपन का समय काल कच्चा घड़ा की तरह होता है उसे जिस सांचा में ढालो उसी सांचा में ढल जायेगा मेरा तात्पर्य यह है की यदि आपको सही समय में सही guideline मिले आपके द्वारा उचित समय में सही निर्णय लिया गया हो तो आप जरुर कामयाब होंगे. ” सही समय में सही निर्णय” इन शब्दों को थोडा गंभीरता से लेने की जरुरत है क्योंकि देर से लिया गया फैसला आपको जीवन भर संघर्ष करने के लिए मजबूर कर देगा.

सफलता पाने का एकमात्र राज – खुद पर भरोषा रखकर ईमानदारीपूर्वक मेहनत करना

हम अपनी जिंदगी में सबसे बड़ी गलती यह करते हैं की दूसरों को देखकर हम अपनी जिंदगी का निर्णय लेते हैं. हर किसी की काबलियत और पसंद एक दुसरे से भिन्न होती हैं इसीलिए आपको आगे क्या करना है इसका फैसला आप अपने अनुसार यानि की अपनी काबलियत और पसंद के अनुरूप ही लें जो आपको जीवन में कामयाबी और ख़ुशी देगी. जरा सोचिये यदि सचिन तेंदुलकर किसी की दबाव में आकर इंजीनियरिंग करते तो क्या होता? शायद वो इंजिनियर बन भी जाते किन्तु वो उन ऊँचाइयों को छु नहीं पाते जिन ऊँचाइयों पर वो आज हैं.

“सपने वो नहीं होते जो आप सोने के बाद देखते हैं, सपने वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते.” – अब्दुल कलाम

यदि आपका भविष्य में CA बनने की प्लानिंग है तो आप सही जगह हैं क्योंकि आज के लेख में इस विषय से जुडी पूरी जानकारी आपको प्राप्त होगी. Chartered Accountant बनना इतना आसान नहीं है किन्तु नामुमकिन भी नहीं. यदि आपने CA बनने का सपना देखा है तो आज से ही तैयारी में लग जाइये. CA बनने की पूरी guidelines के साथ मैं अपने लेख को आगे बढ़ाते हैं-

Chartered Accountant क्या होता है?

CA यानि Chartered Accountant एक financial guide की तरह काम करता है और लोगों को financial advice प्रदान करता है. किसी भी संस्था, व्यापार आदि के वित्तीय सम्बंधित कार्यों को करने के लिए CA की आवशयकता पड़ती है जो हमें सही वित्तीय सलाह और हमारे account management का कार्य करता है. Chartered Accountant का प्रमुख कार्य – Business Accounting, Auditing, Tax Planning, Tax return filing आदि है. किसी भी व्यवसाय के विकाश और उच्च लेखांकन में एक CA का अहम् योगदान होता है. इसे हिंदी में सनदी लेखाकार या अधिकारपत्रप्राप्त लेखाकार कहते हैं.

Accountancy पेशे का एकमात्र लाइसेंसिंग सह विनियमन निकाय – ICAI

ICAI अर्थात The Institute of Chartered Accountants of India भारत का राष्ट्रीय पेशेवर लेखा निकाय है. इसकी स्थापना 1 जुलाई 1949 को भारत में chartered accountancy के पेशे को नियंत्रित करने के लिए की गयी थी. यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पेशेवर लेखा और वित्त निकाय है. यह भारत की एकमात्र accountancy पेशे का लाइसेंसिंग सह विनियमन निकाय है. ICAI के द्वारा ही chartered accountant बनने की योग्यता का निर्धारण किया जाता है.इसकी पाठ्यक्रम अपनी कठोर मानकों के लिए जाना जाता है. इसी के द्वारा परीक्षा लिया जाता है और लेखांकन की प्रैक्टिस करने का लाइसेंस जारी किया जाता है.

CA बनना यदि लक्ष्य है तो जरुरी है कठिन परिश्रम, धर्य और लगन

CA बनना इतना आसान नहीं होता है इसके लिए आपको कठिन मेहनत करना होगा. आपको इसके लिए एक लम्बे प्रोसेस से गुजरना होगा. इस लेख में मैं आपको इसके पुरे प्रोसेस से परिचित कराऊंगा ताकि आपको इसके लिए तैयारी करने में मदद मिल सके.

CPT Exam CA बनने की पहली प्रक्रिया

CPT (Common Proficiency Test) – CA पेशे के लिए योग्य उमीदवार के चयन हेतू ICAI के द्वारा CPT प्रवेश परीक्षा आयोजित किया जाता है. आमतौर पर यह परीक्षा वर्ष में दो बार जून और दिसम्बर में आयोजित किया जाता है. यदि आप इस परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं तो परीक्षा से सम्बंधित जानकारी जैसे पात्रता, परीक्षा पैटर्न, पाठ्यक्रम, तिथि आदि इसकी website –icaiexam.icai.org पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं.

इसकी परीक्षा में भाग लेने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12 वीं की परीक्षा पूरी करनी होगी. इसके लिए आप 10 वीं क्लास के बाद भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं किन्तु आपको परीक्षा में बैठने के लिए आपको senior secondary examination (10+2) passed/appeared होना होगा.

Syllabus of CA CPT Exam

आपको यदि CA बनना है तो इसके लिए तैयारी आपको दसवीं के बाद से ही शुरू कर देना चाहिये. अपने आप को CPT Exam के लिए पूरी तरह से तैयार कर लें ताकि आपको सफलता मिल जाये. CPT Exam chartered accountant बनने का प्रवेश द्वार है. इस टेस्ट के लिए syllabus निश्चित किये गए हैं उसी के अनुरूप आपको तैयारी करनी होगी. Syllabus इसप्रकार हैं:-

Section AFundamentals of AccountingMaximum marks-60Minimum marks-18
Section BMercantile LawsMaximum marks-40 Minimum marks-12
Section CGeneral EconomicsMaximum marks-50Minimum marks-15
Section DQuantitative AptitudeMaximum marks-50Minimum marks-15

आप यह परीक्षा दोनों माध्यम English/Hindi माध्यम से दे सकते हैं. यह कुल 200 अंकों की परीक्षा होती है. एक उमीदवार को यह एग्जामिनेशन उत्तीर्ण करने के लिए प्रत्येक पेपर में 40% अंक और सभी पपेरों के कुल अंकों में 50% अंक प्राप्त करना पड़ता है. CPT Test pass करने के बाद अगला पडाव आता है – IPCC (Integrated Professional Competency Course).

IPCC Registration and Examination

IPCC परीक्षा CA बनने के लिए दूसरा पडाव है और इस परीक्षा में appear होने के लिए आपको CA CPT test और 12th की परीक्षा पास करना होगा. इस परीक्षा में शामिल होने से पहले आपको IPCC के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. CA intermediate का पाठ्यक्रम ICAI के द्वारा पेश किये गए पाठ्यक्रम का हिस्सा है. CA IPCC के पाठ्यक्रम में 7 पपेरों का होता था जो 2 भागों में विभाजीत था किन्तु 2018 से CA IPCC के नयी योजना में 8 पेपर हैं (CA IPCC के नयी योजना के तहत हुए बदलाव को आप इसके ऑफिसियल वेबसाइट में जाकर देख सकते हैं.) जो इसप्रकार है –

Group I
Paper 1Accounting100 Marks
Paper 2Corporate and Other Laws100 Marks
Paper 3Cost and Management Accounting100 Marks
Paper 4Taxation100 Marks
Group II
Paper 5Advanced Accounting100 Marks
Paper 6Auditing and Assurance100 Marks
Paper 7Enterprise Information Systems & Strategic Management100 Marks
Paper 8Financial Management & Economics for Finance 100 Marks
3 Years Articleship Practice

CA IPCC की परीक्षा पास करने के बाद आपको तीन साल का आर्टिकलशिप प्रैक्टिस ट्रेनिंग करना पड़ता है. तीन वर्ष का आर्टिकलशिप प्रैक्टिस ट्रेनिंग CA कोर्स का एक अतिमहत्वपूर्ण चरण है. इसे हर विद्यार्थी को पूरा करना जरुरी होता है. आर्टिकलशिप प्रैक्टिस ट्रेनिंग सिरदर्द वाला होता है किन्तु इसमें कड़ी मेहनत करना आपके भावी – भविष्य के लिए फलदायी होगा. यह एकसाथ सिखने और कमाने का शानदार ऑफर पेश करता है.

ऐसा माना जाता है की articleship training आपके द्वारा गुजारे गए CA student period की golden period होता है. एक सफल chartered accountant बनने के लिए जिन अनुभवों की आवश्यकता होती है उन अनुभवों को आप अर्तिक्लेशिप ट्रेनिंग के दौरान सीख सकते हैं. किताबों से प्राप्त ज्ञान को कैसे लागू किया जाता है आप इसके जरिये सीखते हैं.

आप सीखते हैं की जटिल परिस्थितियों को अपने कौशल से कैसे सँभालते हैं. इन्ही सब कारणों से आर्टिकलशिप को आती महत्वपूर्ण माना जाता है. आर्टिकलशिप प्रैक्टिस ट्रेनिंग करने करने के लिए आपको रजिस्टर करना होगा. 3 साल की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद आपको CA final exam देना होगा.

होटल मैनेजमेंट क्या है पूरी जानकारी विस्तार से

CA Final Exam

यह बहुत ही एडवांस लेवल का एग्जाम होता है. IPCC और आर्टिकलशिप (आर्टिकलशिप पूरा करने के 6 महीने पहले ही आप CA Final Exam देने के लिए पंजीकरण करा सकते हैं ताकि आप परीक्षा में उपस्थित होने के योग्य हो जाएँ) के बाद CA Final Exam देना पड़ता है. इस परीक्षा को भी दो भागों में बांटा गया है इन दोनों भागों को पास करना बहुत मुस्किल होता है.

इस परीक्षा को पास करने के बाद आपका कोर्स पूरा हो जाता है और इसके बाद आप Chartered Accountant बन जायेंगे. उम्मीदवार CA final exam के लिए रजिस्ट्रेशन online ICAI website (www.icai.org) में जाकर कर सकते हैं. CA final course syllabus/Study material इसप्रकार है –

Group I
Paper 1Financial Reporting
Paper 2Strategic Financial Management
Paper 3Advanced Auditing and Professionals Ethics
Paper 4Corporate and Economic Laws
Group II
Paper 5Strategic Cost Management and Performance Evaluation
Paper 6 ARisk Management
Paper 6 BFinancial Services and Capital Markets
Paper 6 CInternational Taxation
Paper 6 DEconomic Laws
Paper 6 EGlobal Financial Reporting Standards
Paper 6 FMulti – Disciplinary Case Study
Paper 7Direct Tax Laws and International Taxation
Paper 8Indirect Tax Laws

अंत में मेरी राय

आशा करता हूँ की मेरा यह लेख आपको CA बनने के लिए तैयारी करने में जरुर मदद करेगी. मेरा व्यक्तिगत मानना है की लगन और मेहनत के बल पर कुछ भी पाया जा सकता है. ये बात सत्य है की chartered accountant बनना इतना आसान नहीं होता है किन्तु नामुमकिन नहीं. खुद की काबिलियत पर भरोषा रखें और ईमानदारीपूर्वक उत्साह के साथ पढाई करेंगे तो आपको सफलता जरुर प्राप्त होगी. पढाई करें किन्तु आपकी मेहनत व्यर्थ ना जाये इसीलिए मेरा आपसे यही सलाह है की किसी expert से जरुर सलाह लें. एक नियमित रूटीन के तहत smart तरीका अपनाकर पढाई करें. मेरा आज का पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट करके मुझे जरुर बताएं ताकि आगे भी मैं आपके लिए इसीप्रकार का ज्ञानवर्धक पोस्ट लेकर आ सकूं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: