Coronavirus (कोरोना वायरस) के लक्षण और बचाव के उपाय

यह बात सत्य है कि संकट के समय व्यक्ति उदास, तनावग्रस्त, भ्रमित, डरा हुआ या गुस्सा महसूस करता है जो एक सामान्य बात है. मौजूदा समय में दुनियाभर के सामने जो सबसे बड़ी चुनौती है वह है – कोरोना वायरस से निपटना (Coronavirus). पूरी दुनिया के सामने फिलहाल एक ही प्रश्न है कि इसका क्या इलाज है? फिलहाल इसका कोई कारगर इलाज उपलब्ध नहीं है केवल बचाव है जो आज के लेख में हम आपको बताएँगे.

Coronavirus के बारे में अत्यधिक जानकारी जुटाने के लिए शोध और अध्ययन लगातार जारी है. अब तक जो ताजा मामले सामने आये हैं उसके अनुसार किसी संक्रमित व्यक्ति के खांसी या छीक के दौरान निकले ड्रॉपलेट और उसके संपर्क में आना ही मुख्य वजह रही है.

जैसा कि हम सभी देख रहे हैं कोरोना वायरस तेजी से भयानक आपातकाल जैसी स्तिथि में तब्दील हो रहा है जिसके कारण दुनिया भर में हजारों लोग इस ख़तरनाक इंफेक्शन का शिकार हो चुके हैं और कितनों की जानें भी जा चुकी है और कुछ लोग पूरी तरह से ठीक भी हो चुके हैं.

Coronavirus इंफेक्शन की सबसे खतरनाक बात यह है ही इसके शुरुआती लक्षण सामान्य जुकाम जैसे लगते हैं और बाद में यही लक्षण एक गंभीर समस्या का रूप धारण कर लेती है. वर्तमान परिस्तिथि को देखते हुए हमें खुद को इस जानलेवा बीमारी से बचाना बेहद ज़रूरी है. 

अधिक जानकारी के लिए आप WHO (World Health Organisation) की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं.

कोरोना वायरस रोग (COVID-19) क्या है?

COVID-19 या Coronavirus रोग एक संक्रामक रोग (infectious disease) है. यह रोग कोरोनावायरस के कारण होता है जो हाल ही में खोजा गया है. इस रोग का असर व्यक्ति की उम्र, उसका स्वास्थ्य और स्वास्थ्य सेवाओं तक उसकी पहुंच पर भी निर्भर कर सकती है. कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा वृद्ध व्यक्ति, बच्चे और चिकित्सा समस्याओं (डायबिटीज़, हाई ब्लड प्रेशर, दिल या सांस की बीमारी आदि) वाले लोगों पर ज्यादा होती है जिनका पहले से ही दूसरी स्वास्थ्य समस्याएं चल रही होती है.

कोरोना वायरस के लक्षण

Coronavirus रोग (COVID-2019) की पहचान causative virus के रूप में की गई थी. यह वही वायरस है जो संक्रमण के रूप में चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में सामने आया था. कोरोना वायरस सम्बंधित है वायरस के ऐसे परिवार से जिसके संक्रमण से खांसी, सर्दी – जुकाम जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है. 

कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति में कुछ सामान्य लक्षण पाये जाते हैं जैसे :

  • सामान्य सर्दी/ नाक बहना/खांसी/ जुकाम
  • बुखार
  • गले में खरास
  • सिरदर्द
  • उल्टी के लक्षण
  • सांस की बीमारी
  • निमोनिया

लॉकडाउन के दौरान अपने ज्ञान को विकसित करें, पढ़ें – गौतम बुद्ध का जीवन परिचय

कोरोना वायरस किसी इंसान के शरीर में पहुँचने के बाद इस संक्रमण का लक्षण औसतन 5 दिनों में दिखना शुरू होता है किन्तु कई मामलों में यह लक्षण बहुत बाद में भी देखने को मिल सकते हैं. इसके लक्षणों में पहले बुखार उसके बाद खांसी और बाद में सांस लेने में परेशानी हो सकती है.

कोरोना वायरस से बचाव के उपाय

इससे सम्बंधित सटीक जानकारी आप WHO (World health organisation) की वेबसाइट पर जाकर या news channels के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं किन्तु तथ्य यह है कि आज लगभग पूरी दुनिया में (195 देशों में) यह जानलेवा वायरस फ़ैल चूका है, जो गंभीर चिंता का विषय है.

इस महामारी को हम हलके में नहीं ले सकते हैं जिसके कारण पुरे देश को लॉकडाउन कर दिया गया है. Coronavirus और न फैले इस बात को गंभीरतापूर्वक समझते हुए हम सब को इस लॉकडाउन का सख्ती से पालन करना है अन्यथा इसके विनाशकारी परिणाम देखने के लिए तैयार रहना होगा.

 सत्य तो यह है कि इस वायरस का अटैक अभी नया है और इसके बारे में हमारे पास सीमित जानकारी उपलब्ध है इसलिए आप जहां तक हो सके सतर्कता बरतें. यह घबराने का नहीं जागरूक होने का समय है.

कोरोना वायरस से बचने के लिए बुनियादी सुरक्षात्मक उपाय:

बार – बार अपने हाथों को धोयें : नियमित रूप से अपने हाथों को अल्कोहल-आधारित hand rub या साबुन और पानी से अच्छे से धोएं. ऐसा करना इसलिए जरुरी है क्योंकि जब आप किसी ऐसे स्थान को छूते हैं जहाँ पर संक्रमित व्यक्ति के छींकते या खांसते वक़्त उसके थूक के बेहद बारीक कण गिरे हों तो आपका हाथ भी उस स्थान को छूने के कारण संक्रमित हो जाता है. इसी संक्रमित हाथ से जब आप अपने आंख, नाक या मुंह को छूते हैं तो ये कण आपके शरीर में प्रवेश कर जाता है.

coronavirus in india in hindi

Maintain social distancing (सामाजिक दूरी बनाए रखें) : कोरोनावायरस के चलते लोगों को यही सलाह दी जा रही है कि वे एक दुसरे से दूरी बना कर (social distancing) रखें. बहुत सारे लोगों के मन में अब सवाल उठ रहा है कि आखिर social distancing maintain करना क्यों जरुरी है?

इसके पीछे तर्क यही है कि जब कोई संक्रमित व्यक्ति छींकता या खांसता है तो इस दौरान उसकी नाक और मूंह से छोटी तरल बूंदें (small liquid droplets) बहार निकलती है जिनमें वायरस हो सकता है. यदि आप ऐसे व्यक्ति के करीब होते हैं तो आप कोरोना वायरस से प्रभावित हो सकते हैं. इसलिए जो व्यक्ति छींक का खांस रहा हो उससे दूरी बनाये रखें.

ज्ञात हो कि दुनिया का प्रत्येक देश अपने – अपने तरीके से कोरोनावायरस से लड़ने के लिए अपने – अपने स्तर से काम कर रहा है किन्तु अभी तक social distancing को इस महामारी (Pandemic) से बचने का सबसे कारगर तरीका माना जा रहा है. कोरोना वायरस से संक्रमण से बचने के लिए और भी कई steps है जो आपको पालन करना चाहिए जैसे:

बिना हाथ धोये अपने आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें

अपने हाथों को कम से कम 20 सेकंड तक धोएं 

छींकते और खांसते वक़्त टिश्यू का इस्तेमाल करें

इस्तेमाल किये गये टिश्यू फेंक दें और अच्छी तरह अपने हाथों को धोयें

Sanitizer का उपयोग करें

दूसरों से हाथ मिलाने से बचें 

कार्ड और कैश payment के दौरान खतरा बढ़ सकता है इसीलिए डिजिटल payment करने की कोशिश करें.

संक्रमित व्यक्ति के प्रभाव में आने से यह वायरस तेजी से फैलता है इसलिए भीड़ – भाड़ वाले स्थानों या समूह से हमेशा दूरी बनाये रखें. 

 coronavirus-se-bachne-ke-upay

कोरोनावायरस : हमारा विश्लेषण

यदि जिन्दा रहना है तो सीरियस हो जाओ! वरना आनेवाले सप्ताह की कल्पना करना भी मुश्किल हो जाएगी. ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूँ कि इस समय पूरी दुनिया के लिए महासंकट बना Coronavirus कुछ गैर जिम्मेदार लोगों के लिए मजाक का विषय बना हुआ है. जैसा मैं social media में देख रहा हूँ कुछ लोग इसे हंसी ठिठोली और राजनीति का साधन बना चुके हैं जो वर्तमान परिस्तिथि के लिए हास्यास्पद है.

दुनिया के कई देश जैसे जैसे चीन, जापान, इटली, फ्रांस, ईरान आदि अपने आँखों के सामने इस वायरस का रौद्र रूप देख चुकी है. हमारे देश भारत भी इस वायरस फैलने के second stage में चल रहा है. हम साथ मिलकर इस वायरस को अपने देश से दूर कर सकते हैं केवल आपको सुझाये गये guidelines का पालन करना है. अपने सैंयम का परिचय देकर मानवता की रक्षा करना है.

पुरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन को हमें यथासंभव सफल बनाना है और कोरोना वायरस जैसे महामारी को रोकना है क्योंकि इस जानलेवा महामारी के कारण कई देशों की स्तिथि भयावह बनी हुई है.

अफवाहों से खुद को दूर रखें

मेरा मकसद आपको डराना नहीं बल्कि जागरूक करना है और सत्य से परिचित कराना है. एक बात का और ध्यान रखें कोरोना से ज्यादा खतरनाक है इससे जुडी अफवाहें, इससे बचें. आपका सहयोग जरुरी है इसलिए आपके पास इस विषय से जुडी कोई भी महत्वपूर्ण जानकारी है तो उसे आप हमारे साथ साझा कर सकते हैं और इसके लिए आप हमारा comment box का उपयोग कर सकते हैं.

By Lal Anant Nath Shahdeo

Lal Anant Nath Shahdeo

मैं Lal Anant Nath Shahdeo इस हिंदी ब्लॉग का founder हूँ. यह ब्लॉग बनाने का मेरा उद्देश्य हिंदी पाठकों तक हिंदी भाषा में महत्वपूर्ण जानकारी पहुँचाना है.

Leave a Reply