full form of ipo

Full form of IPO : जानिये आईपीओ क्या है?

Finance

यदि आप share market से जुड़कर निवेश करना चाहते हैं तो आपको इसके बारे में अच्छे से समझना होगा. बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं जो शेयर बाज़ार का नाम तो सुने होते हैं किन्तु इससे सम्बंधित ऐसे कई terms होते हैं जिनके बारे में वे ज्यादा नहीं जानते हैं.

आज के लेख में हम आपको share market से जुड़े ऐसे ही एक महत्वपूर्ण term ‘IPO’ के बारे में बताएँगे. इससे सम्बंधित कई ऐसे महत्वपूर्ण सवाल हैं जो आपके जेहन में उठते होंगे जैसे – Full form of IPO, IPO क्या है? यह क्यों जारी किया जाता है? यहाँ निवेश करना कितना सुरक्षित है आदि.

उपरोक्त तमाम प्रश्नों का उत्तर यदि आप सरल शब्दों में विस्तार से समझना चाहते हैं तो अंत तक बने रहिये हमारे इस लेख के साथ.

Full form of IPO – IPO क्या है?

IPO का पूर्ण रूप ‘Initial Public Offering’ होता है. इसके प्रत्येक शब्दों पर यदि आप गौर करेंगे तो आपको इसके बारे में समझना और भी आसान हो जाएगा.

Initial Public Offering (IPO) अर्थात जब भी किसी कंपनी द्वारा पहली बार (Initial) जनता (Public) के लिए अपना सामान्य stock या share (offering) जारी किया जाता है तो उसे ही हम Initial Public Offering (IPO) के नाम से जानते हैं.

IPO : जारी करने का कारण

चलिए अब एक महत्वपूर्ण सवाल की ओर आगे बढ़ते हैं कि कोई कंपनी IPO क्यों जारी करती है? इस सवाल का सीधा सा उत्तर यही है कि जब कभी किसी कंपनी को लगता है कि अब उसे अपनी कंपनी का और ज्यादा विस्तार करना चाहिए तो इस स्तिथि में वह IPO जारी करती है.

कोई भी कंपनी जब अपना विस्तार करना चाहती है तो उसे कंपनी विस्तार हेतु अतिरिक्त पूँजी की आवश्यकता होती है. इस अतिरिक्त पूँजी की आवश्यकता को पूरा करने के लिए कंपनी या तो बैंक से कर्ज ले सकती है या IPO जारी कर सकती है.

वैसे देखा जाए तो आमतौर पर किसी कंपनी के लिए बैंक से कर्ज लेने के बजाय IPO जारी करना ज्यादा बेहतर होता है.

इसतरह से हम कह सकते हैं कि किसी कंपनी द्वारा वित्त की आवश्यकता को पूरी करने के लिए जनता से धन एकत्रित करने के रूप में IPO जारी करती है.

अन्य महत्वपूर्ण बात

किसी कंपनी द्वारा अतिरिक्त fund जुटाने के उद्देश्य से शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध होकर अपने सामान्य shares आम जनता के बीच पहली बार IPO के रूप में जारी करती है.

जब कभी किसी कंपनी द्वारा IPO लाया जाता है तो उसे SEBI (Securities and Exchange Board of India) के सारे नियमों एवं शर्तों को पूरा करना होता है.

हम समझ सकते हैं कि कोई कम्पनी नयी हो अथवा छोटी हो तो उसे अपने व्यापार की वृद्धि हेतु IPO जारी करना पड़ता है वही लिमिटेड कम्पनियाँ भी शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध होने के उद्देश्य से इसे जारी करती है.

IPO निवेश के लिए कितना सुरक्षित है?

मैं नए निवेशकों को यही राय देना चाहूँगा कि यदि आप IPO में आवेदन करने के लिए फॉर्म भरने जा रहे हैं तो यह सुनिश्चित कर लें कि आप अपनी गाढ़ी कमाई को कहाँ लगाने जा रहे हैं.

Experts की मानें तो IPO में निवेश करना बाज़ार के जोखिमों के अधीन है. यदि आपके पास इसके बारे में पर्याप्त जानकारी है तो यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है. सच तो यही है कि जब कोई व्यक्ति share market में भविष्य बनाना चाहता है तो उसे जोखिम उठाने की capacity रखना चाहिए.

निवेशकों को यह बात अवश्य समझना चाहिए कि शेयर बाज़ार में होने वाले लाभ – हानि की जिम्मेदारी सिर्फ आपकी होगी.

यदि आपने निवेश करने का मन बना ही लिया है तो किसी अच्छे ब्रोकर के साथ मिलकर कंपनी का चयन करें और चयनित कंपनी का दूसरी कंपनियों के साथ तुलनात्मक अध्ययन करना ना भूलें.

Lal Anant Nath Shahdeo

मैं इस हिंदी ब्लॉग का संस्थापक हूँ जहाँ मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी प्रस्तुत करता हूँ. मैं अपनी शिक्षा की बात करूँ तो मैंने Accounts Hons. (B.Com) किया हुआ है और मैं पेशे से एक Accountant भी रहा हूँ.

https://www.aryavartatalk.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *