insurance क्या होता है?

Insurance क्या होता है? समझिये insurance से सम्बंधित पूरी जानकारी हिंदी में

Finance Interesting Story

By Lal Anant Nath Shahdeo : Updated on – 23.03.2020

Insurance क्या होता है? लगभग हम सभी insurance शब्द से परिचित हैं. ये कोई नया शब्द नहीं है हमारे लिए किन्तु बहुत सारे लोग इसकी importance को नहीं समझ पाते हैं.

हिंदी भाषा में इसे बीमा के नाम से जाना जाता है. हम सभी को एक जरुरी बात से अवगत जरुर रहना चाहिए कि बीमा होना क्यों आवश्यक है? Why having Insurance is necessary?

भविष्य में किसी नुकसान से आप निपटने के लिए तैयार रहना चाहते हैं तो आज का post आपके लिए उपयोगी है. हमारी ज़िन्दगी कब किस करवट लेगी ये कोई नहीं जान सकता है. किन्तु हम इसके लिए तैयार रह सकते हैं ताकि नुकसान की भरपाई कर सकें.

Insurance क्या होता है?

Insurance is a means of protection from financial loss. जी हाँ! insurance (बीमा) वित्तीय नुकसान से सुरक्षा का एक साधन है. इसका मतलब ही होता है “जोखिम से सुरक्षा.”

इसप्रकार insurance से आशय है कि हम कुछ शुल्क (Premium) किसी insurance company को देकर हानि का जोखिम उस कंपनी पर डाल सकते हैं. जब कोई व्यक्ति बीमा करवाता है तो उस व्यक्ति को होनेवाले आर्थिक नुकसान की पूर्ति बीमा कंपनी करती है.

Insurance (बीमा) एक ऐसी व्यवस्था है जिसमें कोई बीमा कंपनी आर्थिक नुकसान, दुर्घटना, बीमारी, मृत्यु आदि पर मुआवज़ा देने की गारंटी देती है.

जब हमें पता नहीं कि कल क्या होगा, ऐसी स्थिति में बीमा जरुर करा लेना चाहिए. वास्तव में बीमा backup देने का कार्य करता है. आजकल की दुनिया में जब हमारे पास सुविधा है तो कुछ प्रीमियम देकर हमें हमारी किमती वस्तुओं का insurance करा लेने में ही समझदारी है.

उदाहरण के तौर पर देखें तो यदि आप किसी बीमा कंपनी से अपनी कार, स्मार्टफ़ोन या अन्य किसी चीज का बीमा कराया है तो वास्तव में बीमा कंपनी और आपके बीच एक अनुबंध हुआ है.

इस अनुबंध के लिए आपको बीमा कंपनी को निश्चित धनराशी (प्रीमियम) देनी होगी. बदले में बीमा कंपनी अपनी policy की शर्तों के अनुसार बीमा कराये गये चीजों में यदि कोई नुकसान होगी तो हर्जाना देने की गारंटी देती है.

उस चीज के टूटने – फूटने, खोने आदि की स्थिति में बीमा कंपनी बीमाकृत व्यक्ति को शर्तों के अनुसार मुआवजा प्रदान करेगी.

» माइक्रोफाइनेंस क्या है?

Insurance (बीमा) के प्रकार

आमतौर पर बीमा दो तरह के होते हैं : 1. Life insurance (जीवन बीमा) और 2. General insurance (साधारण बीमा)

Life insurance (जीवन बीमा) : इसप्रकार के बीमा पॉलिसी में पॉलिसी खरीदनेवाले व्यक्ति की यदि असमय मृत्यु हो जाए तो उसपर आश्रित परिवारवालों को insurance company की ओर से मुआवजा दिया जायेगा.

Life insurance पॉलिसी का फ़ायदा यह है कि किसी कारणवश यदि परिवार का मुखिया की असमय मृत्यु हो जाये तो उसपर आश्रित परिवारजनों को आर्थिक संकट का सामना करना न पड़े.

इसतरह किसी आपात आर्थिक संकट से बचने के लिए जीवन बीमा पॉलिसी मददगार होती है. यह financial planning का एक अहम् हिस्सा है.

साधारण बीमा (General insurance) में निम्नलिखित बीमा आते हैं:

Motor insurance (वाहन बीमा) : हमारे देश भारत में सड़क पर चलने वाले मोटर वाहनों का बीमा कराना कानूनी रूप से जरुरी है. यदि आप बिना बीमा कराये मोटर वाहन से चलते हैं तो इसे traffic rules के खिलाप समझा जायेगा और आपको जुर्माना भरना पड़ सकता है.

इसप्रकार के बीमा पॉलिसी के अंतर्गत वाहन को हुए किसी भी प्रकार के नुकशान पर मुआवजा बीमा कंपनी देगी. वाहन को किसी दुर्घटना से क्षतिग्रस्त होने पर या चोरी होने पर वाहन बीमा पॉलिसी मददगार साबित हो सकती है.

Crop insurance (फसल बीमा) : फसल बीमा पॉलिसी के तहत फसल को किसी प्रकार के नुकसान होने पर बीमा कंपनी की तरफ से किसानों को मुआवजा दिया जाता है.

फसल ख़राब होने पर, आग लगने पर, बाढ़ की वजह से फसल को नुकसान होने पर, मौसम के कारण फसल तबाह होने आदि पर बीमा कंपनी की तरफ से मुआवजा दिया जाता है. किसानों को किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए प्रतिवर्ष अपने फसलों का बीमा कराना चाहिए.

Travel insurance (यात्रा बीमा) : अलग – अलग बीमा कम्पनियाँ अपनी अलग – अलग शर्तों के अनुसार यात्रा बीमा मुहैया कराती है. वास्तव में यात्रा बीमा किसी यात्रा के दौरान होनेवाले नुकसान से बचाती है.

यदि कोई व्यक्ति स्वयं या अपने परिवार के साथ किसी यात्रा पर जाता है तो यात्रा के दौरान कोई दुर्घटना, सामान की चोरी आदि कारणों से नुकसान हो सकता है. ऐसी स्थिति मे यात्रा बीमा लाभकारी सिद्ध हो सकता है.

यदि आप यात्रा बीमा कराते हैं तो यात्रा के दौरान होने वाले नुकसान का वहां बीमा कंपनी करेगी. यात्रा बीमा पॉलिसी आपकी यात्रा शुरू होने से लेकर यात्रा समाप्त होने तक ही वैध रहता है.

Home insurance (घर का बीमा) : इस बीमा पॉलिसी के अंतर्गत यदि आपके घर को किसीप्रकार का नुकसान होता है तो नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करती है.

यदि आप अपने घर का बीमा किसी बीमा कंपनी से कराते हैं तो घर पर हुए किसी नुकसान के लिए बीमा कंपनी से हर्जाना ले सकते हैं. आपके घरों में आग लगने, भूकंप, घर पर चोरी होना, बाढ़ आदि से नुकसान होने का खतरा हो सकता है.

इसप्रकार घर का बीमा में घर के साथ – साथ घर का सामान को शामिल किया जाता है.

Other insurance (अन्य बीमा) : इन सब के आलावा और भी अन्य बीमा होते हैं जैसे कारोबार उत्तरदायित्व बीमा, पालतू जानवरों का बीमा, विवाह के लिए बीमा इत्यादि.

बीमा की मुख्य विशेषताएं

जीवन में अनेक अनिश्चितताओं की चिंता से मुक्ति या जोखिम से सुरक्षा के लिए बीमा जरुरी है. किसी व्यक्ति के जीवनकाल में अनेकों जोखिम हो सकते हैं जैसे वित्तीय, स्वास्थ्य सम्बंधित जोखिम आदि .

बीमा पूरी तरह से वैधानिक अनुबंध है जो सहकारिता की भावना पर आधारित है. बीमा को एकप्रकार से सहयोग कहा जा सकता है क्योंकि इसमें सभी बीमाकृत लोग प्रीमियम जमा करते हैं और इसमें से बहुत कम लोगों को ही नुकसान उठाना पड़ता है, जिन्हें मुआवजा दिया जाता है.

वास्तव में जोखिम होने की सम्भावना वाले लोगो की संख्या अधिक होती है किन्तु नुकसान कुछ लोगों को ही उठाना पड़ता है जिन्हें मुआवजा दिया जाता है.

इसमें भुगतान किसी घटना के घटित होने पर ही किया जाता है. आधुनिक युग में बीमा का क्षेत्र व्यापक होता जा रहा है और यह policy लोगों के लिए आवश्यक है.

अंत में, आशा करता हूँ कि आज का पोस्ट Insurance क्या होता है? के द्वारा दी गयी जानकारी आपके लिए जरुर उपयोगी होगी. आज का लेख आपको कैसी लगी comment करके जरुर बतायें. यदि पसंद आई हो तो like और share करना ना भूलें.

Lal Anant Nath Shahdeo

मैं इस हिंदी ब्लॉग का संस्थापक हूँ जहाँ मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी प्रस्तुत करता हूँ. मैं अपनी शिक्षा की बात करूँ तो मैंने Accounts Hons. (B.Com) किया हुआ है और मैं पेशे से एक Accountant भी रहा हूँ.

https://www.aryavartatalk.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *