Mutual fund kya hai

Mutual Fund kya hai 

Mutual Fund का Funda

आज के लेख में हम बात  करेंगे Mutual Fund की। अगर आप भी एक निवेशक हैं या future में Mutual Fund  में अपना luck आजमाना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए उपयोगी होने वाली  है।  दोस्तों आपने   कभी न  कभी Mutual Fund के बारे में  जरूर सुना होगा और आप में  से  कुछ लोगों ने  इस fund में investment भी कर रखा  होगा।

आज मैं बात करने वाला हूँ  beginner investors की। जब हम पहली बार कहीं investment करने की बात सोचते हैं तो हमारे सामने कई सवाल आकर खड़े  हो जाते  है और उनमे से एक सवाल यह भी होता है की क्या जहाँ मैं investment करने जा रहा हूँ उसमे रिस्क है या नहीं? आप जवाब की तलाश करते हैं तो कुछ लोग आपको कहते हैं की इसमें risk होता है और कुछ लोग कहते हैं की इसमें risk नहीं होता है।

Mutual fund kya hai 

यदि आप investor हैं तो आपको ये बातें याद रखीं चाहिये -किसी भी investment में 3 घटनाएं घटती है -1. Return 2. Risk और 3. Period of Investment Return जो आपकी income percentage को बतलाता है, Risk- आपने जो investment किये हैं उसमे risk कितना है , और Period of investment- आपने कितने समय के लिए investment किया है। 

हमें  investment क्यों करना चाहिये?

हम में से ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं होता या जानकारी की कमी के कारण  अपने पैसे को Bank में ही पड़े रहने देते हैं। आपको पता ही नहीं चलता लेकिन आपके पड़े हुए पैसे अपनी  value loss करते रहते हैं। Inflation  में बृद्धि होने के कारण चीज़ें महंगी होती रहती है और हर वर्ष आपके पड़े हुए पैसे कुछ percentage की rate से valueless होते चले जाते हैं। इसपर साधारण लोगों का ध्यान नहीं जाता है। हमारे रखे हुए पैसों को valueless होने से बचाने  के लिए हम investment करते हैं। 

Investment करने के बहुत से तरीके होते हैं जैसे -Stocks, Bond, Real estate, Gold, Savings account और इनमे से एक तरीका investment का Mutual fund भी है। आप कहीं पर भी investment कर सकते हैं यदि आपको Investment का अनुभव है और आपको यदि investment की ज्यादा जानकारी नहीं है तो आपके लिए Mutual fund में invest करना सबसे अच्छा option होगा क्यूंकि Mutual fund उन लोगों के लिए ही है जिनको market के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है।

mutual fund kya hai in hindi
mutual fund kya hai in hindi

Mutual Fund kya hai ?

बहुत सारे निवेशकों के द्वारा पैसा इकठ्ठा करके  एक fund में डाल दिया जाता है जिसे Mutual fund कहा जाता है। जैसा की नाम से ही पता चलता है Mutual का  हिंदी समकक्ष शब्द आपस का , पारस्परिक या  आपस के सम्बन्ध का होता है। आप ये समझ लीजिये की Mutual fund एक सामूहिक investment होता है। जहाँ fund जमा होता है उसे fund house कहते हैं। 

 कार्यप्रणाली 

Mutual fund में आपको investment करने के लिए किसी Professional का सहारा लेने की जरूरत नहीं होती है क्यूंकि आप जो भी इस fund में investment करते हैं वो पैसा highly qualified fund manager की देख-रेख में होते हैं। बहुत सारे लोग ये समझते हैं की Share market और Mutual fund एक ही होती है लेकिन ऐसा नहीं है.

Mutual fund के लिए Demat Account की जरुरत नहीं होती 

जब आप Mutual fund में अपना investment करते हैं तो आपका investment indirectly share market में ही जाता है किन्तु वो आपके द्वारा नहीं बल्कि किसी professional के माधयम से जो आपके investment को अनुकूलता के आधार पर share market में invest करते हैं।  इन्ही highly qualified fund manager के द्वारा fund के निवेशों का निर्धारण किया जाता है तथा लाभ या हानि का हिसाब रखा जाता है और profit या loss को investors के बीच बाँट दिया जाता है। यहाँ आपको investment के लिए demat account की जरुरत  नहीं होती है। 

Mutual fund की risk level

आपको यह जानना अति आवश्यक है की किसी भी investment में risk होता ही है किन्तु ये बात अलग है की कहीं कम  तो कहीं ज्यादा। यदि आप भी Mutual fund में invest करना चाहते हैं तो आपको थोड़ी समझदारी से काम लेना होगा। आप अपना investment lowest amount के साथ शुरू कर सकते हैं। आप SIP के माध्यम से investment की शुरुआत कर सकते  हैं। इसमें ज्यादा risk नहीं होती  है। 

SIP (Systematic Investment Plan) क्या है?

एक निश्चित amount को हर महीने एक स्किम में डालने की प्रक्रिया है जो investors को निश्चित amount को घटाने और बढ़ाने  का विकल्प भी देता है। आप किसी mutual fund में SIP 500 या 1000 रुपये मासिक राशि से शुरू कर सकते हैं। Mutual fund investors के बीच यह स्कीम काफी लोकप्रिय है। 

Mutual fund के प्रकार

Mutual fund के प्रकार – Equity funds, Debt funds, Balanced funds, Money market funds, Index funds, Gilt funds  और Liquid funds

Equity Funds

Equity funds:-यदि risk के हिसाब से देखें तो Equity funds को high risk fund माना जाता है। यह fund equity shares में invest किया जाता है। इनका जो return होता है वो Stock market से जुड़ा हुआ होता है। हाँ यहाँ risk होने के साथ -साथ profit कमाने की संभावना भी ज्यादा होती है। यह एक तेजी से बढ़ने वाला fund है।  Equity fund के भी कई प्रकार होते हैं। Equity fund में investment का मतलब company का हिस्सेदारी खरीदना है।

Debt Funds

Debt funds:-जब आप Debt funds में investment करते हैं तो इसका मतलब होता है की आप इस fund को जारी करने वाली संस्था को loan देते हैं। इसमें risk factor कम होते हैं लेकिन यहाँ profit भी आपको उसी हिसाब से मिलेंगे। यहाँ पर investment सरकारी और कंपनियों की fixed income assets में किया जाता है । यह safe investment माना जाता है। यहाँ पर सरकार और private companies के द्वारा बिल और बॉण्ड  जारी किया जाता है।

Balanced Funds

Balanced funds:-जैसा की नाम से ही पता चल रहा है यहाँ पर investment Equity funds और Debt funds में बिलकुल balanced तरीके से किया जाता है। इस तरह के investment में risk और profit को भी बैलेंस कर दिया जाता है। यह fund निवेशकों के लिए लाभकारी होते हैं क्यूंकि यहाँ पूंजी की सुरक्षा निश्चित होती है।

एक निश्चित अनुपात में यहाँ Equity funds और Debt funds में निवेश किया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य निवेश को संतुलित रखना होता है तथा यहाँ profit भी ठीक- ठाक मिल जाता है। यदि आपको अच्छी return चाहिये तो इस fund में long term investment अच्छा रहेगा। जो लोग risk कम लेना चाहते हैं उनके लिए Balanced fund में investment करना अच्छा है।

Money Market Fund

Money market fund:– यहाँ पर investment short term scheme के तहत होती है। यह एक सुरक्षित निवेश है। यहाँ पर investment government bonds, treasury bills इत्यादि पर किया जाता है। यहां निवेश कम समय में ही mature हो जाते हैं. अन्य mutual fund के तुलना में यहाँ return थोड़ा कम मिलता है। वास्तव में यह निवेश अल्पावधि निश्चित आय है। किसी भी emergency की स्तिथि में आप यहाँ से पैसा निकाल भी सकते हैं। यह उन लोगों के लिए जो लोग तुरंत निवेश से फ़ायदा चाहते हैं।

Index Funds

Index funds:-ऐसा माना जाता है की Index fund में long term investment बहुत ज्यादा profit वाला हो सकता है। इसमें होता क्या है की पहले से निश्चित index में आने वाले stock को  अनुपातिक रूप से निवेश किया जाता है। Mutual fund company के पास बहुत तरह के index होते हैं। आप ये समझ लीजिये की share market के index में बहुत सारी कम्पनियाँ शामिल रहती है और आप उन कंपनियों के share में निवेश करते हैं। जानकारों का मानना है की index fund में profit आपकी average ही रहेगी।

Gilt Funds

Gilt funds:-यहाँ पर निवेशकों का पैसा सरकारी योजनाओं पर लगाया जाता है इसलिए ये सबसे सुरक्षित fund माना जाता है।  केंद्र सरकार यहाँ security की guarantee देती  है जिसके कारण आपका पैसा सुरक्षित रहता है। ये फंड केंद्रीय और राज्य सरकार की प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं और यह  दीर्घकालिक निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त हैं जो की जोखिम से मुक्त है।

Liquid Funds

Liquid funds:-यह अल्पकालिक निवेश के दौरान अच्छा return देनेवाला fund माना जाता है। जब आपके पास कहीं से इकठ्ठा पैसा आ जाय तब इस fund में निवेश किया जा सकता है। इसमें बहुत कम जोखिम होने की संभावना होती है। यहाँ पर आप कुछ महीनो के लिए निवेश करके फ़ायदा उठा सकते हैं। यहाँ पर बहुत कम उतार चढ़ाव देखने को मिलता है। 

कुछ जरुरी बातें 

Investment का मतलब होता है की इससे सम्बंधित राशि से asset खरीदकर भविष्य में ब्याज के रूप में लाभ कमाया जा सके और यह धन अर्जित करने का ऐसा तरीका होता है जिसको कोई और control करता है।

Mutual fund को दो श्रेणियों में बांटा जा सकता है 

  1. Open end fund:-इस प्रकार की श्रेणी में इसे कभी भी ख़रीदा या बेचा जा सकता है।
  2. Closed end fund:-इसे आपको maturity तक रखना ही पड़ता है इसे बीच में बेचा नहीं जा सकता है।

Mutual fund SEBI (Securities and Exchange Board of India) के अंतर्गत पंजीकृत है जो बाजार को control करने का काम करती है। यहाँ पर निवेशकों का पैसा पूरी तरह से सुरक्षित होता है क्यूंकि निवेशकों का पैसा को secure करने का काम SEBI करती है। कोई भी company आपके साथ धोखा नहीं कर सकती है, इस बात को सुनिश्चित SEBI करती है। Mutual fund में धोखे का बहुत ही कम chances होते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: