Polytechnic क्या है? पॉलिटेक्निक कोर्स का विवरण हिंदी में

Polytechnic क्या है? : 10 वीं या 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण कर चुके छात्र चाहें तो इंजीनियरिंग के क्षेत्र में डिप्लोमा करके भी अपना करियर बना सकते हैं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं ‘पॉलिटेक्निक कोर्स’ के बारे में जो एक ऐसा प्रोफेशनल कोर्स है, जिसमें कई प्रकार के करियर विकल्प मौजूद हैं.

कुछ लोगों की विवशता होती है कि वे अपनी पढाई के लिए बहुत ज्यादा पैसे खर्च नहीं कर सकते हैं और वे कुछ इसतरह का कोर्स करना चाहते हैं जिसे करने के बाद उन्हें तुरंत जॉब मिले सके. ऐसे छात्रों के लिए पॉलिटेक्निक कोर्स करना फायदेमंद साबित हो सकता है.

पॉलिटेक्निक कोर्स वास्तव में एक डिप्लोमा कोर्स है जो कि छात्रों के बीच काफी पॉपुलर है. इसके अंतर्गत कई शाखाएँ होती है जिसका अध्ययन छात्र अपनी रूचि के अनुसार कर सकता है. जो छात्र इस डिप्लोमा कोर्स को पूरा कर लेते हैं वो जूनियर स्तर के इंजीनियर के रूप में करियर बना सकते हैं. इस कोर्स को करने का एक लाभ यह भी है कि यह छात्रों को सीधे इंजीनियरिंग के दुसरे वर्ष में दाखिला लेने में मददगार होता है.

पॉलिटेक्निक कर चुके छात्रों के पास technical जानकारी होती है जिसकी मदद से वो कई प्रकार की अच्छी नौकरियां प्राप्त करने में सक्षम होते हैं. इस डिप्लोमा कोर्स को करने के बाद आप जूनियर लेवल की जॉब्स शुरूआती स्तर पर प्राप्त तो कर सकते हैं किन्तु उच्च स्तर की नौकरी पाने के लिए पॉलिटेक्निक कोर्स तक सिमित रहना काफी नहीं है. इसके लिए आपको आगे का अध्ययन जारी रखना जरुरी है. आप चाहें तो इसके बाद इंजीनियरिंग डोमेन से ही बी.टेक करने के बारे में सोंच सकते हैं.

पॉलिटेक्निक कोर्स, वैसे तो आप 10 वीं या 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद इसमें दाखिला ले सकते हैं किन्तु इसके साथ – साथ नामांकन के लिए इच्छुक उम्मीदवार को आवश्यक eligibility criteria को पूरा करना होता है. यदि आप भी इस कोर्स को करके अपना करियर बनाना चाहते हैं और इससे सम्बंधित पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल के साथ अंत तक जरूर बने रहें.

Polytechnic क्या है?

पॉलिटेक्निक या डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग आमतौर पर 3 वर्षों की अवधि में किया जानेवाला एक प्रोफेशनल कोर्स है. इस कोर्स के अंतर्गत 10 वीं या 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण कर चुके छात्रों को कई क्षेत्रों में डिप्लोमा करके करियर बनाने का मौका मिलता है. इस कोर्स को करनेवाले छात्रों को विविध विषयों पर तकनीकी शिक्षा (technical education) प्रदान की जाती है. आप चाहें तो इंजीनियरिंग के विभिन्न क्षेत्र जैसे – मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, केमिकल, पेट्रोलियम, सिविल आदि में डिप्लोमा कर सकते हैं.

कई प्रकार के प्रवेश परीक्षाओं (entrance examinations) के आधार पर इस कोर्स में एडमिशन पाया जा सकता है. इस कोर्स के अंतर्गत डिप्लोमा की डिग्री प्राप्त कर चुके छात्र या तो नौकरी का विकल्प का चुनाव कर सकते हैं या इंजीनियरिंग में उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं.

सबसे ख़ास बात यह है कि पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारक बी.टेक के दूसरे वर्ष में सीधे प्रवेश पाने के योग्य हो जाते हैं. ऐसे कई इंजीनियरिंग कॉलेज हैं जो पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारकों को लेटरल एंट्री प्रदान करते हैं और इसके लिए उनके द्वारा प्रवेश परीक्षा का भी आयोजन किया जाता है.

आप यहाँ पर एक और महत्वपूर्ण बात समझ लीजिये कि पॉलिटेक्निक और B.Tech के बीच मुख्य अंतर यही है कि पॉलिटेक्निक एक डिप्लोमा कोर्स है वहीँ B.Tech कोर्स एक डिग्री कोर्स है. पॉलिटेक्निक की तुलना में B.Tech कोर्स करने के लिए ज्यादा फीस चुकाना पड़ता है.

यह भी देखें -

पॉलिटेक्निक कोर्स एक नज़र में

  • कोर्स का नाम : पॉलिटेक्निक (Polytechnic)
  • कोर्स का स्तर : डिप्लोमा
  • कोर्स की अवधि : 3 वर्ष
  • इस कोर्स को कब कर सकते हैं : 10 वीं या 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद
  • नामांकन प्रक्रिया – प्रवेश परीक्षा और मेरिट आधार पर
  • नौकरी के विकल्प – जूनियर इंजीनियर, असिस्टेंट इंजीनियर आदि

पॉलिटेक्निक में नामांकन हेतु पात्रता मानदंड

पॉलिटेक्निक में नामांकन के लिए इच्छुक उम्मीदवार को आवश्यक पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा तभी वे इस कोर्स के लिए नामांकन के योग्य हो सकते हैं. इसके लिए कुछ आवश्यक पात्रता मानदंड निम्न हैं –

  • किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण कर चुके छात्र इसके पात्र हैं.
  • 12 वीं उत्तीर्ण छात्र भी इस कार्यक्रम के पात्र हैं
  • देश के शीर्ष पॉलीटेक्निक कॉलेज सामान्य प्रवेश परीक्षा/राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के आधार पर नामांकन देते हैं.
  • कुछ पॉलिटेक्निक कॉलेज ऐसे भी हैं जो बिना किसी प्रवेश परीक्षा के सीधे प्रवेश प्रदान करते हैं.
  • उम्मीदवार को 10 वीं की परीक्षा में कम से कम 55% कुल अंक होना चाहिए

पॉलिटेक्निक कोर्स का मुख्य विवरण हिंदी में

अब तक आपने इस कोर्स से सम्बंधित बहुत सी बातें समझ चुके होंगे. 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद किया जानेवाला यह एक लोकप्रिय कोर्स है. इसका एक महत्वपूर्ण पक्ष यह भी हैं कि यह एक टेक्निकल कोर्स होने की वजह से कोर्स पूरा होने के बाद नौकरी की संभावना बढ़ जाती है. भारत में ऐसे कई कॉलेज मौजूद हैं जहाँ Campus selection की भी सुविधा दी जाती है.

पॉलिटेक्निक कोर्स आप गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज या निजी पॉलिटेक्निक कॉलेज दोनों ही तरह के कॉलेज से कर सकते हैं. ज्ञात हो को सरकारी संस्थान के मुकाबले निजी संस्थान में इस कोर्स के लिए ज्यादा फीस चुकाना होगा. देश में अच्छे पॉलीटेक्निक कॉलेज की कोई कमी नहीं है. यदि आप सम्बंधित संस्थान द्वारा निर्धारित की गयी पात्रता मानदंड को पूरा करते हैं तो आप आसानी से प्रवेश के लिए पात्र हो जाते हैं.

पॉलिटेक्निक कोर्स के अंतर्गत आप कई प्रकार के विशेष धाराओं से डिप्लोमा कर सकते हैं जैसे – मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, आईटी इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग आदि.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप कई प्रकार के जॉब्स के लिए तैयार हो जाते हैं और इसके लिए आप निजी क्षेत्र में जॉब के लिए आवेदन तो कर ही सकते हैं इसके साथ – साथ ऐसे कई सरकारी क्षेत्र हैं जहाँ पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कर चुके उम्मीदवार को वरीयता देते हैं.

आइये देखते हैं कुछ शीर्ष पॉलिस्टिक पाठ्यक्रम की सूची कौन – कौन से हैं –

शीर्ष पॉलिस्टिक पाठ्यक्रम की सूची

  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  • केमिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  • ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  • आईटी इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  • पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में डिप्लोमा
  • सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा

अन्य महत्वपूर्ण बात

पॉलिटेक्निक करने के बाद आप चाहें तो नौकरी कर सकते हैं और यदि आगे की पढाई करना चाहते है तो वो भी कर सकते हैं. इस कोर्स को करना उन छात्रों के लिए मददगार साबित हो सकता है जो किसी ऐसे प्रोफेशनल कोर्स की तलाश में हैं जिसे वो कम समय में पूरा करके अपने करियर को आगे बढ़ा सकें.

पॉलिटेक्निक उन छात्रों के सपने को काफी हद तक पूरा करता है जो इंजीनियरिंग या टेक्नोलॉजी की दुनिया से जुड़ना चाहते हैं. इस कोर्स को कर रहे छात्रों को प्रैक्टिकल ट्रेनिंग दिया जाता है जिससे उनका कौशल विकास होता है. ऐसे कई गैरसरकारी और सरकारी संस्थान हैं जो पॉलीटेक्निक कर चुके छात्रों को नियुक्ति करने हेतु प्राथमिकता देती है.

पॉलीटेक्निक पास कर चुके छात्रों के पास ऐसे कई आकर्षक सरकारी क्षेत्र हैं जहाँ वे करियर बना सकते हैं जैसे – रेलवे विभाग, बिजली विभाग, भारत संचार निगम लिमिटेड, तेल और प्राकृतिक गैस निगम, भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड आदि.

इस लेख (Polytechnic क्या है?) के माध्यम से मैंने आपको इस विषय पर कई महत्वपूर्ण पहलुओं से परिचित करवाया है. दोस्तों अंत में मैं आशा करता हूँ कि आपको यह लेख जरूर पसंद आयी होगी और यदि आपको यह लेख पसंद आयी हो कृपया इस पोस्ट को like, share और comment करना न भूलें.

Lal Anant Nath Shahdeo

मैं इस हिंदी ब्लॉग का संस्थापक हूँ जहाँ मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी प्रस्तुत करता हूँ. मैं अपनी शिक्षा की बात करूँ तो मैंने Accounts Hons. (B.Com) किया हुआ है और मैं पेशे से एक Accountant भी रहा हूँ.

Spread your love:

Leave a Comment