Post Office FD plan in hindi : पोस्ट ऑफिस FD बचत योजना 2019-20 क्या है?

जब बात आती है deposit scheme की तो अधिकतर लोगों को केवल bank का ही ख्याल आता है लेकिन क्या आपको पता है कि आज के समय में post office में भी तमाम तरह की जमा स्कीम में निवेश कर लाभ उठाया जा सकता है. जैसे सुकन्या समृद्धि योजना, किसान विकास पत्र, पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट, पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट, पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम, पोस्ट ऑफिस टाइम डिपाजिट आदि.

जिसप्रकार बैंकों में फिक्स्ड डिपाजिट होते हैं उसी प्रकार पोस्ट ऑफिस में इसे पोस्ट ऑफिस टाइम डिपाजिट के नाम से जाना जाता है. पोस्ट ऑफिस टाइम डिपाजिट बैंकों के फिक्स्ड डिपाजिट की तरह ही होते हैं. इसतरह की छोटी स्कीम का फायदा यह है की इसपर सरकार की नजर रहती है और समय – समय पर इसतरह की स्कीमों की ब्याज दरों पर समीक्षा की जाती है.

आज के लेख में हम बात करेंगे कि Post office FD (Fixed Deposit) scheme यानि पोस्ट ऑफिस टाइम डिपाजिट scheme क्या है? What is a post office time deposit scheme?

पोस्ट ऑफिस FD क्या है? Post Office FD plan in hindi

पोस्ट ऑफिस FD जिसे Post Office Time Deposit Account (TD) के नाम से भी जाना जाता है. वास्तव में FD और TD एक ही चीज है बस नाम का अंतर है. भारत सरकार हर तिमाही (quarterly) पोस्ट ऑफिस बचत योजनाओं की ब्याज दरों को तय करती है और पोस्ट ऑफिस FD भी इसमें शामिल है.

हम सभी को ज्ञात है की सरकारी बजट financial year (वित्तीय वर्ष) के हिसाब से चलते हैं. 1 अप्रैल से 31 मार्च तक के समय को एक financial year (वित्तीय वर्ष) माना जाता है जो 12 महीनों का होता है. तीन महीने के समय को तिमाही कहा जाता है और यदि हम गणना करें तो एक वित्तीय वर्ष में चार तिमाहियां होगी.

पोस्ट ऑफिस FD एक, दो, तीन और पाँच वर्षों की अवधि के लिए किया जा सकता है. बेहतर ब्याज दर के साथ यहाँ पैसों की पूरी सुरक्षा की सरकारी गारंटी है. FD scheme के तहत आप एक निश्चित समय के लिए कोई राशि जमा कर सकते हैं. जितनी ज्यादा अवधि के लिए आप राशि जमा करते हैं ब्याज भी उसी अनुपात में आपको अधिक प्राप्त होगा.

आपके पास यदि एकमुश्त राशी मौजूद है और आपका भविष्य के लिए कोई प्लान है तो पोस्ट ऑफिस FD एक बेहतर विकल्प है. पोस्ट ऑफिस FD में निवेश के लिए समयावधि और इसके अनुसार उपलब्ध ब्याज दरें निम्नलिखित हैं:

» Interest rates From 01.07.2019 (ब्याज दरें 01.07.2019 से)

» Interest payable (देय ब्याज) सालाना है किन्तु गणना तिमाही होती है.

पोस्ट ऑफिस की ब्याज दरें 01 जुलाई 2019 से लागू

PERIOD (अवधि)RATE (दर)
1 वर्ष की FD6.9%
2 वर्ष की FD6.9%
3 वर्ष की FD6.9%
5 वर्ष की FD7.7%

FD की मुख्य विशेषताएं

पोस्ट ऑफिस FD में अधिकतम राशि जमा करने की कोई निश्चित सीमा नहीं है. लेकिन आप इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत एक वर्ष में केवल 1,50,000 रुपये तक के निवेश पर ही डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं. 100 रुपया नियुनतम राशि से खाता खोला जा सकता है.

एक पोस्ट ऑफिस में एक ही व्यक्ति कई खाते खोल सकता है.

दो वयस्कों के द्वारा मिलकर joint account खोला जा सकता है. यदि आप चाहें तो जरुरत पड़ने पर सिंगल अकाउंट को कभी भी joint account में और joint account को सिंगल अकाउंट में बदल सकते हैं.

नाबालिक के नाम से भी खाता खोला जा सकता है. नाबालिक 10 साल या 10 साल से बड़ा है तो वह अपना खाता खुद भी संचालित कर सकता है और यदि नाबालिक 10 साल से छोटा है तो इस स्तिथि में नाबालिक के अभिभावक उसके नाम पर खाता संचालित कर सकता है.

पोस्ट ऑफिस खाता को एक पोस्ट ऑफिस से किसी दुसरे पोस्ट ऑफिस में स्थानांतरित किया जा सकता है.

पोस्ट ऑफिस FD में जमा राशि पर ब्याज की गणना तिमाही चक्रवृद्धि ब्याज (Quarterly Compound Interest) के आधार पर किया जाता है किन्तु ब्याज आपको सालाना मिलता है.

सबसे ख़ास बात यदि आप पोस्ट ऑफिस FD निवेश पर 1.4.2007 से आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको पाँच साल के लिए निवेश करना होगा. इस स्कीम में पाँच साल के निवेश पर टैक्स का छूट मिलती है. ध्यान रहे पाँच साल से कम अवधि के लिए निवेश पर टैक्स छूट का यह नियम लागू नहीं है.

Net banking/Mobile banking के माध्यम से ऑनलाइन खाता खोलने की सुविधा भी प्राप्त है.

See Also

» Types of bank account in hindi

» Secured loan and unsecured loan in hindi

निष्कर्ष : Post Office FD plan in hindi

पाँच साल से कम maturity वाली स्कीम में आप रकम जमा करते हैं और यदि ये रकम आयकर छूट सीमा से अधिक है तो टैक्स स्लैब के हिसाब से टैक्स गणना में इस्तेमाल किया जायेगा इसीलिए टैक्स छूट का लाभ उठाने के लिए कोशिश करें कि पाँच साल के निवेश पर विशेष ध्यान दिया जाए ताकि धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट का लाभ उठाया जा सके.

पोस्ट ऑफिस FD में निवेशक की पूँजी और प्राप्त ब्याज पर सरकारी गारंटी मिलती है अर्थात ये निवेश पूरी तरह से सुरक्षित है जिसपर आपको कोई संदेह नहीं होना चाहिए. कई बैंक FD की तुलना में पोस्ट ऑफिस FD की ब्याज दर ज्यादा है जो निवेशक के लिए ख़ास लाभकारी है.

पोस्ट ऑफिस FD अकाउंट किसी संस्था या समूह के नाम से नहीं खुलवाया जा सकता है. इसे केवल व्यक्तिगत रूप से ही खुलवाया जा सकता है. इस खाता में आप नॉमिनी का नाम भी जोड़ सकते है यानि खाताधारक की मृत्यु होने पर जमा राशि पाने का अधिकार नॉमिनी को होता है.

आज के लेख Post Office FD plan in hindi में बस इतना ही यदि आपके मन में इस लेख से सम्बंधित कोई सवाल हो तो आप निसंकोच कमेंट बॉक्स का उपयोग करके पूछ सकते है और कोई सुझाव हो तो वो भी दे सकते हैं. पोस्ट पसंद आये तो कमेंट करें, लाइक करें और शेयर करें. धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: