TRP kya hai? जानिये TRP क्यों महत्वपूर्ण है?

क्या आप जानते हैं कि कौन सी TV (Television) चैनल या show की लोकप्रियता कितनी है? क्या ये पता लगाया जा सकता है कि कौन से कार्यक्रम सबसे अधिक देखे जाते हैं? क्या इसतरह की कोई कसौटी या उपकरण (tool) या लोगों की पसंद का सूचकांक है जिससे किसी विशेष TV channels की लोकप्रियता का पता लगाया जा सके?

जी हाँ, TV channels की लोकप्रियता का पता लगाया जा सकता है. हम सभी TV जरुर देखते हैं किन्तु हर कोई अपनी पसंद के हिसाब से TV कार्यक्रम देखते हैं. जैसे किसी को music channel पसंद है, कोई comedy पसंद करता है, किसी को news पसंद है आदि. यदि आप भी TV से जुड़े हुए हैं तो मैं समझता हूँ कि आपने कभी – कभी TRP के बारे में जरुर सुना होगा. चलिए विस्तार से जानते हैं कि – TRP क्या है तथा इसकी गणना कैसे की जाती है?

TRP Kya Hai? What is TRP in Hindi

TRP यानि Television Rating Point वह उपकरण है जिसके द्वारा पता लगाया जाता है कि कौन सा TV चैनल या कार्यक्रम सबसे ज्यादा देखा जा रहा है. किसी चैनल या कार्यक्रम की TRP ज्यादा होने का अर्थ होता है कि ज्यादा दर्शक उस कार्यक्रम को देख रहे हैं.

आपको बता दें की TRP (Television Rating Point) की गणना करने के लिए चुनिंदा जगहों पर एक ख़ास उपकरण लगाये जाते हैं जिसे – People’s Meter कहा जाता है अर्थात TRP Calculation के लिए People’s Meter नामक उपकरण का उपयोग किया जाता है.

कौन सा कार्यक्रम या चैनल कितनी बार देखा जा रहा है इस बात का पता People’s Meter यन्त्र के उपयोग से विशिष्ट आवृत्ति (Specific Frequency) के द्वारा पता लगाया जाता है.

People’s Meter के द्वारा ही हर एक मिनट टीवी की जानकारी को Monitoring Team तक पहुंचा दिया जाता है. यह monitoring Team प्राप्त जानकारी का विश्लेषण करती है और विश्लेषण करने के पश्चात ही तय करती है कि कौन सा कार्यक्रम का TRP कितनी है. इसतरह की Monitoring का काम भारत में INTAM (Indian television Audience Measurement) एजेंसी के द्वारा किया जाता है.

TRP का ज्यादा या कम होने से क्या होता है?

अब तक आपने समझ लिया है कि TRP क्या है किन्तु आपको ये भी समझना चाहिए की यह किसी TV चैनल्स के लिए क्यों महत्वपूर्ण है? यह इतना महत्वपूर्ण इसलिए माना जाता है कि TRP Rating का सीधा असर किसी Channels की income पर पड़ती है. चलिए जानते हैं कि TRP घटने और बढ़ने से किसी चैनल्स पर क्या – क्या असर हो सकता है –

सबसे पहली बात किसी चैनल की कमाई का मुख्य श्रोत विज्ञापन है.

जब किसी चैनल को लोग कम देखते हैं तो उसकी TRP भी कम होती है तो हो सकता है की उस चैनल को विज्ञापन के ज्यादा पैसे नहीं मिलेंगे या कम विज्ञापनदाता मिलेंगे.

नोट – TRP का असर किसी चैनल ही नहीं बल्कि किसी विशेष कार्यक्रम पर भी पड़ती है अर्थात मान लेते हैं की Sony टीवी चैनल की TRP down हो गयी है किन्तु उस चैनल में आनेवाली कोई एक प्रोग्राम की TRP काफी ज्यादा है तो हो सकता है की कोई विज्ञापनदाता उस विशेष show के लिए विज्ञापन के ज्यादा पैसे दें.

TRP कैसे चेक करें? 

TRP चेक करने के लिए आपको Barcindia.co.in पर जाना होगा. जैसे ही आप इस site पर जायेंगे आपके सामने top 10 Channels की weekly reports मिल जाएगी.  इसके साथ ही आप इस साईट पर top 10 Advertiser और top 10 Brands का भी list देख सकते हैं. 

TRP kya hai? : सारांश

TRP का पूर्ण रूप Television Rating Point होता है.

भारत में TRP Calculate करने के लिए People Meter नामक device का उपयोग किया जाता है.

दर्शकों की संख्या के आधार पर TRP रेटिंग जारी की जाती है.

Lal Anant Nath Shahdeo

मैं Lal Anant Nath Shahdeo इस हिंदी ब्लॉग का founder हूँ. यह ब्लॉग बनाने का मेरा उद्देश्य हिंदी पाठकों तक हिंदी भाषा में महत्वपूर्ण जानकारी पहुँचाना है.

Leave a Reply