Types of bank accounts in hindi

बैंक खातों के प्रकार 

Bank Account क्या होता है आज के ज़माने में लगभग हर कोई जानता है किन्तु यह कितने प्रकार के होते हैं ये जानकारी सभी को नहीं होती है। आज के Article types of bank accounts in hindi को पढ़ने के बाद आप यह अच्छी तरह समझ जायेंगे की Bank Accounts कितने प्रकार के होते हैं। आज के ज़माने में Bank हमारे जीवन का एक अहम् हिस्सा बन चूका है जिसके बिना हमारा काम नहीं चल सकता है अतः हमें bank से related जानकारियां होनी आवश्यक है। जितनी जानकारियां होंगी काम उतना आसान होगा। सभी bank account एक जैसे नहीं होते हैं वो अलग -अलग प्रकार के होते हैं और उनकी विषेशताएं भी अलग -अलग हैं –

 

Types of bank accounts in hindi

मुख्यतः bank account चार प्रकार के होते और अपनी  विषेशताओं के अनुसार उनके नाम अलग -अलग हैं।

चार प्रकार के bank accounts हैं -(1) Saving Account (2) Current Account (3) Recurring Deposit Account और (4) Fixed Deposit Account.

SAVING ACCOUNT

  1. Saving Account (बचत खाता):-कोई भी व्यक्ति अपनी personal saving के लिए बचत खाता खोल सकता है।  इस प्रकार के account open करने के लिए बैंकों के द्वारा निर्धारित minimum amount से आप अपना बचत खाता खोल सकते हैं। यह account सबसे common type का account है जो सभी लोगों के बीच प्रचलित है।  इस प्रकार का खाता किसी भी व्यक्ति के personal banking के लिए खोले जाते हैं ।

सेविंग अकाउंट क्यों खोला जाता है –

अपने नाम के अनुरूप Saving Account (बचत खाता ) लोगों के पैसे को Saving करने के लिए खोले जाते हैं। 

Saving Account (बचत खाता ) में bank आपके जमा की गयी राशि के अनुसार अपने निर्धारित दर पर आपको interest देती है। Interest rate अलग -अलग बैंकों के अलग -अलग हो सकते हैं । इसमें कभी भी पैसा निकला और डाला जा सकता है किन्तु आप इस प्रकार के खता से bank overdraft नहीं कर सकते हैं यानि की आप अपनी जमा की गयी राशि से ज्यादा राशि नहीं निकाल सकते हैं। यहाँ पर आपको वार्षिक चक्रवृद्धि व्याज के दर पर व्याज दिया जाता है। 

Saving Account कौन खोल सकता है 

कोई  भी व्यक्ति अपने व्यक्तिगत कार्य के लिए चाहे वो  सरकारी कर्मचारी ,प्राइवेट कर्मचारी , Student या  Pensioner हो Saving Account (बचत खाता ) खोल सकता है। इसका उपयोग व्यापारिक कार्य के लिए नहीं किया जा सकता है। कोई भी लिमिटेड या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को कानूनन Saving Account (बचत खाता ) खोलने की अनुमति प्राप्त नहीं हो सकती है। 

CURRENT ACCOUNT

 2. Current Account (चालू खाता ):-व्यावसायिक कार्य को करने के लिए Current Account (चालू खाता ) की जरूरत पड़ती है इसीलिए व्यापारिक उद्देश्य की पूर्ति के लिए Current Account (चालू खाता ) खोला जाता है। Current Account (चालू खाता ) बिज़नेस लेनदेन के लिए किया जाता है और इसप्रकार के खाता से लेनदेन की कोई निश्चित सिमा नहीं होती है यानि की आप जितना चाहें लेनदेन कर सकते हैं। जहाँ आपको Saving Account (बचत खाता ) में ब्याज दिया जाता है वहीँ Current Account (चालू खाता ) में कोई ब्याज नहीं दिया जाता है।

 

व्यवसायिक कार्य की पूर्ति हेतु एक दिन में अनेकों लेनदेन करने पड़ते हैं और चूँकि Current Account (चालू खाता ) में लेनदेन की कोई सिमा नहीं होती है इसीलिए व्यावसायिक कार्य को करने के लिए यह खाता महत्वपूर्ण है। इसमें bank overdraft की सुविधाएँ दी जाती है।

 

Current Account (चालू खाता )  बैंको द्वारा निर्धारित राशि से खोला जा सकता है जो की Saving Account (बचत खाता ) की तुलना में काफी ज्यादा होती है। 

Current Account किनके लिए उपयोगी है 

साधारण लोगों के लिए Current Account (चालू खाता ) नहीं होता है  यह व्यावसयिक उद्देश्य की पूर्ति के लिए होता है। Current Account (चालू खाता ) Proprietorship firms, Partnership firms, Public कम्पनिया, Private कम्पनियाँ , Online shopping से जुडी कम्पनियाँ इत्यादि। 

 RECURRING DEPOSIT ACCOUNT

 (3) Recurring Deposit Account :- हिंदी में इसे आवर्ती जमा खाता के नाम से जाना जाता है। इसे RD के नाम से भी जाना जाता है। हर कोई अपना future plan करता है और उसी हिसाब से यानि अपनी जरूरत के हिसाब से एक मुश्त राशि या थोड़ी थोड़ी करके विभिन्न जगहों पर savings करता है।

वास्तव में Recurring Deposit Account उन लोगों के लिए है जो एक मुश्त राशि जमा न करके एक नियमित अंतराल में अपना saving करना चाहता है। यह उन लोगों के लिए उपयोगी है जिनकी नियमित आय का कोई स्रोत है जैसे कोई नौकरी या पेशा से जुड़ा हुआ जो नियमित रूप से प्रत्येक महीने कुछ जमा करना चाहता हो। आपके बेहतर भविष्य की योजनाओं को पूरा करने के लिए RD एक बेहतर स्किम  हो सकता है।

Recurring Deposit Account क्यों?

यदि आप एक बार में ज्यादा amount deposit करने में अक्षम हैं तो यहाँ  आपको नियमित रूप से थोड़ी -थोड़ी राशि जमा करने की छूट मिलती है। यहाँ पर आपको अच्छी interest rate प्राप्त होगी जो की saving account से ज्यादा होगी।

RD आप छः महीनो से लेकर 10 वर्षों तक का  अपने future plan के हिसाब से कर सकते हैं। यह अवधी बैंकों के हिसाब से कम या ज्यादा हो सकते हैं।

 

इसे आप minimum amount 100 या 500 से खोल सकते है और maximum क़िस्त की कोई लिमिटेशन नहीं है। minimum amount limitation बैंकों के अनुसार कम या ज्यादा हो सकते हैं। इसमें एक ध्यान देने वाली बात यह है की आप जितने समय के लिए अपना स्किम चुना है उस period को पूरा करना जरुरी है।

 

ऐसा नहीं होता है की यदि आपकी RD की कोई क़िस्त छूट जाये तो आपका पैसा डूब जायेगा, क़िस्त छूटने पर penalty लग सकता है। RD की सुविधा बैंकों के साथ -साथ Post office पर भी मिलती है। RD Account में आप समय से पहले अर्थात maturity से पहले पैसा नहीं निकाल सकते हैं आप इसको समय से पहले बंद जरूर कर सकते हैं। यह खाता single या joint खोला जा सकता है।

FIXED DEPOSIT ACCOUNT

(4) Fixed Deposit Account :-हिंदी में इसे सावधि जमा खाता के नाम से जाना जाता है। इसे short में FD कहते हैं। एक बार में किसी धनराशि को  निश्चित अवधी के लिए जमा की गयी राशि को FD कहते हैं जहाँ आपको निश्चित दर से ब्याज मिलती है। यहाँ भी आपको बचत खाता से ज्यादा ब्याज दिया जाता है। यहाँ पर आपको 7% से लेकर 9% तक ब्याज मिल सकता है जो की विभिन्न बैंको के अनुसार अलग -अलग हो सकते हैं।

यदि आप चाहते हैं की आपका जमा धनराशि दोगुनी हो जाये तो इसके लिए आपको 8 से 10 वर्षों तक इंतिजार करना पड़ सकता है। तय की गयी अवधी से पहले आप FD से पैसा नहीं निकाल नहीं सकते हैं यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको इसके लिए penalty देना होगा। FD अपनी तरलता और लचीलापन के कारण काफी लोकप्रिय है और यहाँ आपको उच्च ब्याज दर मिलता है। 

 यह तो थी Types of  bank accounts in hindi कि basic  जानकारियां,  विस्तार से जानने के  लिए comment box पर comment करें हम आपके सवालों का जवाब  विस्तारपूर्वक यथाशीघ्र देंगे। आप FD पर दी जानेवाली ब्याज दर की जानकारी moneycontrol.com से पा सकते हैं। 

Leave a Reply

%d bloggers like this: