Lal Anant Nath Shahdeo

मैं इस हिंदी ब्लॉग का संस्थापक हूँ जहाँ मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी प्रस्तुत करता हूँ. मैं अपनी शिक्षा की बात करूँ तो मैंने Accounts Hons. (B.Com) किया हुआ है और मैं पेशे से एक Accountant भी रहा हूँ.

https://www.aryavartatalk.com

20 thoughts on “Trial Balance in Accounting – ट्रायल बैलेंस क्या है?

    1. ट्रायल बैलेंस को लेज़र में पोस्ट करने के बाद तैयार किया जाता है जबकि बैलेंस शीट ट्रेडिंग और प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट की तैयारी के बाद तैयार किया जाता है. ट्रेडिंग अकाउंट फाइनल अकाउंट्स का पहला चरण है.

      1. ट्रायल बेलेंस में डेबिट साइड में क्या और क्रेडिट साइड में क्या लिखा जायगा…?

        1. ट्रायल बैलेंस में जितने भी expenses होंगे वो सब के सब debit side में होंगे और जितने भी income होंगी वो credit side में नजर आएँगी. याद रखें trial balance जर्नल एंट्रीज के rules से ही बनता है. एकाउंटिंग के rules कहता है कि Debit all expenses and losses और Credit all incomes and gains.

      1. आपको depreciation के लिए journal entries बनाना होगा. इसके बाद उन्हें लेज़र में पोस्ट किया जाएगा और लेज़र से संबंधित खातों के शेष को ट्रायल बैलेंस में दिखाया जाएगा.

      2. Sir further bad debt trial balance banane ke bad hote par sir trial balance or final account ek hi din to banaye jate hai year ke end me..trial balance banane ke bad kab further bad debt ho jate hai sir.

    1. आपको मैं बताना चाहूंगा कि trial balance जर्नल एंट्रीज के rules से ही बनता है. एकाउंटिंग के rules कहता है कि Debit all expenses and losses और Credit all incomes and gains. हमेशा याद रखें कि जब भी हमारा कोई expense होता है तो वह capital को हमेशा कम करता है तो इसलिए नियम के अनुसार वह debit पक्ष में होता है और जब भी कोई income होती है तो वो हमारी capital को increase करता है और rules के अनुसार वह credit पक्ष में होता है.
      ट्रायल बैलेंस में जितने भी expenses होंगे वो सब के सब debit side में होंगे और जितने भी income होंगी वो credit side में नजर आएँगी।

  1. Sir trial balance banane ke kitne time ke bad hum …final account banate hai….mean trading & profit loss account or balance sheet banate hai….mean trial balane or final account banane ke bich me kitne time ka difference rehta hai

    1. वैसे तो ट्रायल बैलेंस किसी भी तारीख में तैयार किया जा सकता है जो monthly, quarterly, half-yearly या yearly भी हो सकता है. हालाँकि, trial balance एकाउंट्स का arithmetic accuracy की जांच करने के लिए किसी विशेष तिथि पर तैयार किया जाता है न कि किसी विशेष अवधि के लिए तैयार किया जाता है और जैसा की हम सभी जानते हैं कि final accounts accounting period के अंत में बनाया जाता है (हम वित्तीय वर्ष के अंत में अंतिम खाते तैयार करते हैं)

      1. Sir to phir jab trial balance or final accounts ek din banate to trial balance me kuch bad debt hote or kuch adjustment me further bad debt diya hote to sir ek hi din jab banate to ye further bad debt kab hote sir…..

      2. Mean jo trial balance me bad debt diye hote usme or adjustment me furher bad debt diye hote unme kitne time ka difference hota sir

          1. आपके द्वारा पूछे गए सवाल (asset kyo barabar hoti hai liability ke kuch chizo bataiye na jisse samajh aa jaye) का संक्षेप में जवाब देना थोड़ा मुश्किल है फिर भी मैं कुछ महत्वपूर्ण बात बताना चाहूंगा –
            क्योंकि बैलेंस शीट accounting equation पर आधारित है और accounting equation इसप्रकार होता है –
            Assets = Liabilities + Equity
            Assets – जो कंपनी के पास है जैसे land, buildings, machinery, cash, goodwill आदि
            Liabilities – जो कंपनी का बकाया है या दायित्व है जैसे – बैंक से लोन, अन्य दायित्व
            Equity – Assets और Liabilities के बीच जो अंतर है वास्तव में equity और कुछ नहीं बल्कि owner’s fund होता है

  2. Sir humne jo provision for doubtful debt banaya hai isi saal me to next year agar bad debt nahi hue to sir ab agar humne jo last year ke profit me se paisa nikala tha hum usme paisa wapas dalna chahte to sir kaise dalenge kyoki is saal to wo provision koi kam ka nahi hai jo last year banaya tha…

  3. Sir interest and dividend me confusion hai ki use cash flow statement me operating activities me ana chahiye ya financing activities me… Pls tell me sir

    1. आप हमारे लेख – Cash Flow Statement – Basic Information In Hindi ध्यान से पढ़ें और समझें. यहाँ पर मैंने Operating activity, Investing activity और Financing activity को विस्तारपूर्वक अच्छे से समझाया है. आपने जो सवाल पूछे हैं (interest and dividend me confusion hai……) उसका जवाब आपको इस लेख को पढ़ने के बाद आसानी से समझ में आ जायेगा क्योंकि मैंने इसके बारे में भी बताया है साथ ही आपको “Cash flow statement” की basic जानकारी भी हो जयएगी.

      मैं चाहता तो आपके सवाल का जवाब एक शब्द में दे सकता था किन्तु इससे आपका concept clear नहीं हो पायेगा.

  4. Sir liability ka hamesha credit balance kyo hota hai…or asset ka debit balance kyo hota hai or expense ka debit balance kyo hota hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *