Lal Anant Nath Shahdeo

मैं इस हिंदी ब्लॉग का संस्थापक हूँ जहाँ मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी प्रस्तुत करता हूँ. मैं अपनी शिक्षा की बात करूँ तो मैंने Accounts Hons. (B.Com) किया हुआ है और मैं पेशे से एक Accountant भी रहा हूँ.

https://www.aryavartatalk.com

4 thoughts on “Trial Balance in Accounting – ट्रायल बैलेंस क्या है?

    1. ट्रायल बैलेंस को लेज़र में पोस्ट करने के बाद तैयार किया जाता है जबकि बैलेंस शीट ट्रेडिंग और प्रॉफिट एंड लॉस अकाउंट की तैयारी के बाद तैयार किया जाता है. ट्रेडिंग अकाउंट फाइनल अकाउंट्स का पहला चरण है.

    1. आपको मैं बताना चाहूंगा कि trial balance जर्नल एंट्रीज के rules से ही बनता है. एकाउंटिंग के rules कहता है कि Debit all expenses and losses और Credit all incomes and gains. हमेशा याद रखें कि जब भी हमारा कोई expense होता है तो वह capital को हमेशा कम करता है तो इसलिए नियम के अनुसार वह debit पक्ष में होता है और जब भी कोई income होती है तो वो हमारी capital को increase करता है और rules के अनुसार वह credit पक्ष में होता है.
      ट्रायल बैलेंस में जितने भी expenses होंगे वो सब के सब debit side में होंगे और जितने भी income होंगी वो credit side में नजर आएँगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *